तो तुम नए भारत हो ?

In English

तो तुम नए भारत हो ?
भक्तों के मसीहा ,
बाजारियों की चाहत हो ?

ना मर्यादा ना शर्म,
नी इतिहास का एहसास ।
तुग़लक़ के बन्दे,
ठीक तो है, होश-ओ-हवास ?

छप्पन का सीना,
और छप्पन की अक्ल,
सूटों की दुकान
पर वही पुरानी शक्ल ?

मुखौटा तो बदल
न बदला गर इंसान,
कुछ नयी अदा तो बता,
कुछ और कर परेशान ।

सीने में दिल तो हमारा भी है
छप्पन न सही,
इक बेहोश जुनून हमारा भी है
बे-पाक ही सही ।

खु़द चल के न जायेंगे
कब्रिस्तान हम,
खेंच के ले जाना होगा
इस मुर्दे को हम-सितम ।

घर, बस्तियों, इंसानों को जलाने वाले
ये सोच के तो देख,
मुर्दाघाटों पर वतन नहीं

विधवाएं बना करती हैं  ।।

सरिता हैदर-आबादी

Dedicated to:

— Drought stricken farmers
— Laborers, white & blue collar workers, losing their jobs every day

— Chattisgarh women being raped and molested every day
— Soldiers dying in internal battlefields, reviled as oppressors not heroes

— Muslims being singled out on the basis of their religion; women and others, on the basis of their sexuality, color, caste or creed

 

Picture credits

Narendra Modi Official/Flickr

IndiaSpend Team/Flickr

Quote source Indian Express

One thought on “तो तुम नए भारत हो ?

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s